श्रीपेरुम्बुदूर 27 दिसम्बर, 2017-राजीव गांधी राष्ट्रीय युवा विकास संस्थान (आरजीएनआईवाईडी) के एप्लाइड साइकोलॉजी विभाग द्वारा आज 'स्कूल मानसिक स्वास्थ्य' पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया।

Hindi

श्रीपेरुम्बुदूर 27 दिसम्बर, 2017-राजीव गांधी राष्ट्रीय युवा विकास संस्थान (आरजीएनआईवाईडी) के एप्लाइड साइकोलॉजी विभाग द्वारा आज 'स्कूल मानसिक स्वास्थ्य' पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया।

उद्घाटन भाषण के दौरान प्रोफेसर (डॉ.) मदन मोहन गोयल, निदेशक आरजीएनआईवाईडी ने मानसिक स्वास्थ्य को समझने, विश्लेषण और व्याख्या करने की आवश्यकता पर बल दिया जो समूची आबादी की भलाई के लिए आवश्यक है।

प्रोफेसर गोयल ने मानसिक बीमारी से स्वास्थ्य के बचाव के लिए, मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और व्यवहारिक कारकों को समझने, उनका विश्लेषण करने और व्याख्या करने की आवश्यकता को उकेरा और उस तरफ हमारे दृष्टिकोण, कार्य, शब्द (कानून) को बदलने पर बल दिया जो वास्तविक में 'यूथक्वेक' होगा।

मानसिक स्वास्थ्य के सकारात्मक आयाम पर जोर देने के लिए, निदेशक आरजीएनआईवाईडी ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) द्वारा स्वास्थ्य की परिभाषा का हवाला देते हुए कहा, 'स्वास्थ्य पूरी शारीरिक, मानसिक और सामाजिक कल्याण की स्थिति है, न कि केवल बीमारी या दुर्बलता की अनुपस्थिति,' ।

प्रो. गोयल का विश्वास है कि मानसिक अ‍स्वास्थों की देखभाल करने वालों को सहानुभूति के साथ न कि दया-भाव के साथ काम करना चाहिए। हमें मानसिक रूप से अस्वस्थ की सलामती को सकारात्मक मानसिकता के साथ सिखाने की जरूरत है ।  

प्रो. गोयल ने बल दिया कि परिवार, समुदाय और समाज में मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों को शामिल करने के लिए हमें उनकी ओर भेदभाव को रोकना होगा। भारत के समावेशी विकास की चुनौती - लापरवाह और बेकार लोगों को सचेत और उपयोगी बनाने के लिए हमें आउट-ऑफ-द-बॉक्स समाधान पर सोचने और पुनर्विचार करने की आवश्यकता है। मानसिक बीमारी के जोखिम को कम करने के लिए हमे सकारात्मक दृष्टिकोण से मिलकर कार्य करना है।

डॉ. एस. सुरेश एसोसिएट प्रोफेसर और विभागध्यक्ष ने मेहमानों का स्वागत किया और आरजीएनआईवाईडी के गो-ग्रीन पहल के तहत पौधरोपण हेतु पौधे दिए। डॉ एम. सुरेश कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

डॉ.  शर्मिष्ठा भट्टाचार्यजी, जनसंपर्क अधिकारी (पी.आर.ओ.) ने प्रेस विज्ञप्ति में यह कहा।

यह जानकारी संस्थान के वेबसाइट :www.rgniyd.gov.in में भी उपलब्ध है।