Celebrations of 69th Republic Day and Inauguration of New Classrooms in National Youth Resource Centre at RGNIYD on 26/01/2018

English

श्रीपेरुम्बुदूर, 26 जनवरी 2018 - राजीव गांधी राष्ट्रीय युवा विकास संस्थान (आरजीएनआईवाईडी) के निदेशक प्रोफेसर मदन मोहन गोयल ने आज संस्थान के परिसर में 69 वें गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि  हमारे गणतंत्र के लोकतांत्रिक मूल्यों को बनाए रखने और मजबूत करने हतु हमें दूसरों पर दोष मढ़ने और शब्दों के टकराव के बिना हमारे अधिकारों और कर्तव्यों के बीच संतुलन बनाना सीखना होगा।  

प्रोफेसर गोयल ने युवाओं से आह्वान किया कि वे नकारात्मक मानसिकता वाले लोगों से सजग, सतर्क और जागृत रहें और तर्कसंगत एवं मूल-कारण (विवेक) का प्रयोग कर पूर्ण जिम्मेदारी के साथ उत्तरदायी भारतीय बने।

निदेशक आरजीएनआईवाईडी ने कहा कि स्वतंत्रता को स्फूर्ती से मसूस करने के लिए और स्वतंत्र जीवन जीने के लिए, हमें प्रचलित दोषों को जीतने और शांतिपूर्ण जीवन हेतु देश को तैयार करने की आवश्यकता है। हम इस गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रतिज्ञा लें कि हम भयावह शत्रुओं से लड़गें।

प्रोफेसर गोयल ने कहा कि हमें पंख वाले दोस्तों (पक्षियों) से सीख लेने की आवश्यकता है, जो स्वतंत्रता के दूत हैं और धरती से ऊपर पंख फैलाए उड़ते हैं जिस धरती को हमने क्षेत्रों, जातियों और पंथों में विभाजित किया है।

प्रोफेसर गोयल ने कहा कि नए भारत के विज़न के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, राजनीति को कैरियर के रूप स्वीकार करने हेतु हमें युवाओं को प्रोत्साहित, प्रेरित और सशक्त करना चाहिए जो राजनीति में स्वस्थ, नैतिक भागीदारी ला सकते हैं।

गीता और अनुगीता से ज्ञान अंतर्निहित कर अपने क्रोध और आध्यात्मिक जागृति को नियंत्रित कर अपने को सशक्त बनाने हेतु प्रोफेसर गोयल ने अपील की। 

उन्होंने अपने भाषण का समापन आरजीएनआईवाईडी के परिवार के सदस्यों और सभी हितधारकों "69 वें  गणतंत्र दिवस" की शुभकामनाएं देते हुए किया।

 

Sriperumbudur, January 26 - To maintain and strengthen democratic values of our republic, we need to learn balancing between our rights and duties without blame game and war of words, said Professor Madan Mohan Goel, Director, Rajiv Gandhi National Institute of Youth Development (RGNIYD) while speaking on the occasion of  69th Republic day celebration in the campus today .

Professor Goel called upon the youth to be alert, aware and awake of the people with negative mind-set and use logic and rationale (vivek) to be an argumentative Indian with full sense of responsibility.

To live in the spirit of freedom, we need to win over the prevailing vices and make the country fit for the peaceful living. Let us take a vow to fight the formidable foes this Republic day, said the Director RGNIYD.

We need to learn from the feathered friends –the messengers of freedom who are free to flyover the lands that we have divided into regions, caste and creed, told Professor Goel. 

To achieve objectives in New India vision, we should encourage, motivate and empower youth to accept politics as a career capable of bringing healthy, ethical participation in politics, told Professor Goel.  He appealed the youth for imbibing the lessons of wisdom in the Gita and Anu-Gita for their real empowerment with spiritual awakening and controlling anger.

He concluded his speech by saying ‘Happy 69th Republic day’ with best wishes to the family members of RGNIYD and all the stakeholders. Further he inaugurated the New Academic Block with smart class facilities. Tree plantation and cultural programmes are also organised during the event. Dr.A.Chandra Mohan, Registrar of RGNIYD, faculty, staff and students were participated in the programme.